कैनोनिकल टैग क्या है और ब्लॉग में इसकी क्या जरूरत है What is Canonical Tag?

HTML/JavaScript

कैनोनिकल टैग क्या है और ब्लॉग में इसकी क्या जरूरत है What is Canonical Tag?

 

Canonical Tag On Page SEO का ही एक Part है । इसका काम Duplucate Content की समस्या को हल करने का है और इसे Google, Yahoo व Microsoft ने मिलकर बनाया था ।

Canonical Tag क्या है ?

Canonical Tag एक HTML कमांड है । इसका उपयोग Website पर मौजूद Duplicate Content का पता लगाने के लिए किया जाता है ताकि Google आसानी से सही यूआरएल ( URL ) को Index कर सकें ।

यदि आपकी Site पर ऐसा Content है जो अलग अलग URL पर मौजूद है और Google के Bots आपकी Post को Index करने के लिए आते हैं तो उन्हें एक ही Content अलग अलग URL पर दिखेगा जिससे वह Confuse हो जायेंगे कि कौनसा Content Original है । लेकिन Canonical Tag का उपयोग करके इस समस्या से बचा जा सकता है ।

Duplicate Content और अलग - अलग URL को आप Different URL of Same Page के Concept से समझ सकते हैं ।

चलिये इसे एक उदाहरण से समझने की कोशिश करते हैं -

1 ) example.com/hindicraze
2 ) http://example.com/hindicraze
3 ) https://www.example.com/hindicraze

यहाँ आप देख सकते हैं कि Page तो Same है. https://www.example.com/hindicraze लेकिन अलग - अलग URL Version बनकर तैयार हो रहे हैं ।

यदि आप Browser में केवल example. com type करेंगे तो भी वही पेज खुलेगा और यदि बाकि के URLs को टाइप करें तो भी Same Page खुलेगा मतलब एक ही Page अलग - अलग URL से Open हो रहा है तो,

  1. अब Google Bot के सामने पहली समस्या है कि वह कौनसे Url को Index करे ?
  2. और एक ही Page का URL अलग - अलग बनने से Content भी Duplicate हो रहा है और किस URL को Index करे Confuse होगा ।

तो इन दो समस्याओं के समाधान लिए कैनोनिकल टैग का उपयोग किया जाता है।

इससे होगा यह कि Search Engine Bot कैनोनिकल Url वाले Page को ही Original समझेगा और उसे ही Index करेगा बाकि के सारे Duplicate URL ख़त्म हो जायेंगे और वो Index नहीं होंगे ।

Post a Comment

3 Comments