डेविट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के खो जाने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

HTML/JavaScript

डेविट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के खो जाने की स्थिति में क्या करना चाहिए?

पुलिस में रिपोर्ट दर्ज करायें

कार्ड खोने पर आपको नजदीकी पुलिस थाने या चौकी में एफआईआर दर्ज करानी चाहिए. इस एफआईआर की एक कॉपी अपने बैंक को मुहैया करायें. कई बैंक इसकी मांग करते हैं. जब तक आप बैंक को कार्ड खोने या गायब होने की सूचना नहीं देते, इस बारे में बैंक की कोई जवाबदेही नहीं बनती.

कार्ड गुम होने की सूचना बैंक को दें

अपने कार्ड गुम होने की सूचना अपने बैंक को कई तरीकों से दे सकते हैं. आप बैंक की हेल्पलाइन या टोल फ्री नंबर पर कॉल करके कार्ड खोने की सूचना दे सकते हैं.

दूसरा, इंटरनेट बैकिंग पोर्टल के जरिये भी कार्ड ब्लॉक करा सकते हैं. जैसे ही कार्ड ब्लॉक होगा आपसे पास कार्ड ब्लॉक होने का मैसेज आ जाएगा. आप अपने बैंक की नजदीकी शाखा में जाकर भी कार्ड गुम होने की सूचना दे सकते हैं.

क्या कार्ड का बीमा होता है ?

क्रेडिट कार्ड का बीमा होता है. इसके लिए आपको फीस चुकानी पड़ती है. अगर आपने बीमा ले रखा है तो इसका मतलब है कि इसके तहत किसी तरह के फ्रॉड की स्थिति में कार्ड धारक की जिम्मेदारी नहीं होगी.

दो तरीके से आप नया कार्ड मंगा सकते है:

1. नए कार्ड का रिक्वेस्ट डालने पर बैंक आपके रडिस्टर्ड एड्रेस पर 5-7 वर्किंग दिनों के अंदर नया कार्ड और पिन भेज देगा.

2. बैंक में जाकर आप खुद भी हाथोंहाथ नया डेबिट कार्ड ले सकते हैं, इसके लिए आपको एक आईडी प्रूफ और एक उसी बैंक का कैंसेल्ड चेक देना होगा और तुरंत नया कार्ड बैंक आपको इश्यू कर देगा.

इन 5 बातों का ध्यान रखें

1-अगर आप नेटबैकिंग का इस्तेमाल करते हैं तो अपने अकाउंट का पासवर्ड भी बदल दें. ये काफी आसानी से हो जाता है और इसके जरिए आप अपने खोए कार्ड के जरिए किसी भी फ्रॉड की संभावने से आसानी से बच सकते हैं.

2-अगर आपको ज्यादा सावधानी बरतने की आदत हैं तो अकाउंट में जमा पैसे को नेट बैंकिंग के जरिए किसी दूसरे अकाउंट में शिफ्ट भी कर सकते हैं.

3-इंटरनेट, एप पर कोई भी बैंकिंग ट्रांजेक्शन करते वक्त सेव डिटेल्स के ऑप्शन को अनचेक ही रखें. कई बार ऐसा होता है कि आपके कार्ड की डिटेल्स ऑनलाइन सेव हो जाती है जिसके जरिए आपके कार्ड का सिर्फ सीवीवी डालकर ट्रांजेक्शन पूरा किया जा सकता है. इस ऑप्शन को कभी भी टिक ना करें.

4-अपने बैंकिंग एसएसएस अलर्ट को चालू रखें ताकि आपके कार्ड से होने वाले लेन-देन की जानकारी आपको मिलती रहे. आपके उस अकाउंट में किसी भी तरह का कोई क्रेडिट-डेबिट होने का मैसेज आपको मिलता है जो आपने ना किया हो तो तुरंत बैंक को इसकी जानकारी दें.

5-कार्ड ब्लॉक करवाने के लिए आपने बैंक के जिस एक्जीक्यूटिव से बात की है उसका नाम और अपनी शिकायत का रिफरेंस नंबर जरूर लिख कर रख लें.

Post a Comment

2 Comments