कैसे खराब हार्ड डिस्क को रिकवर करें ?

HTML/JavaScript

कैसे खराब हार्ड डिस्क को रिकवर करें ?

एक बात याद रखिये - अगर आप अपने डेटा का बैकअप नहीं किये है तो आप उन डेटा को लीज पर लिए है। और वह लीज कभी भी समाप्त हो सकता है। और डेटा कभी भी हाथ से निकल सकता है।
अब आते है आपके प्रश्न पर — हार्ड डिस्क खराब होने पर डेटा कैसे बचाया जा सकता है।
  • डेटा रिकवर करने की संभावना और रिकवर करने में आना वाला खर्च इस बात पर निर्भर करता है कि डैमेज किस प्रकार का है।
  • हम यहाँ पर ट्रेडिशनल मैकेनिकल डिस्क की चर्चा करेंगे, सॉलिड स्टेट ड्राइव अभी नयी टेक्निक है।
  • सॉफ्टवेयर प्रोब्लेम्स
    1. हार्ड डिस्क पार्टीशन का गलती से डिलीट हो जाना, ड्राइव फॉर्मेट हो जाना जैसी समस्याएं आती है। ये समस्या उपयोगकर्ता के भूल या कोई अन्य कारणों से आती है। इन वजहों से अगर डेटा लॉस हुआ है तो बहुत हद तक संभावना है की डेटा रिकवर हो जाय।
    2. इन परिस्थितियों रिकवरी का काम आप खुद भी कर सकते है। मेरा सुझाव ये रहेगा की जैसे ही हार्ड डिस्क में प्रॉब्लम आती है आप उसे छेड़छाड़ नहीं करे और ना ही कुछ भी नया डेटा उस हार्ड डिस्क में भरे। वर्ना रिकवर करना मुश्किल होगा।
    3. Easeus पार्टीशन मैनेजर एक अच्छा रिकवरी सॉफ्टवेयर है। मैंने इसे रिकवर करके आजमाया है।
  • हार्डवेयर प्रॉब्लम्स / फिजिकल डैमेज
    1. इस तरह की समस्यायों में हार्ड डिस्क का हेड, प्लैटर (डिस्क), मोटर, बियरिंग्स या कंट्रोलर में खराबी आने की वजह से होती। ये तब होता है जब हार्ड डिस्क को सुरक्षित तरीके से हैंडल नहीं किया गया है या फिर हार्ड डिस्क की जीवन समाप्त होने को हो।
    2. इनको आप खुद से ठीक करके रिकवरी नहीं कर सकते है।
    3. ज्यादातर केस में हार्ड डिस्क का हेड टूट जाता है। इसके अलावा मोटर का खराब हो जाना, बेअरिंग घिस जाना जैसी समस्या आती है। रिकवरी वाले 5000 के आसपास में हेड बदलकर रिपेयर कर देंगे।
    4. हार्ड डिस्क में इलेक्ट्रॉनिक कंट्रोलर होता है वो भी खराब हो जाता है कई बार। इसे बदला जा सकता है। खर्च का आईडिया नहीं है मुझे।
    5. सबसे महत्वपूर्ण चीज है प्लैटर यानि चकरी जो घूमती है। उसी में डेटा स्टोर किया जाता है। आपको बता दूँ कि ये पार्ट जल्दी खराब नहीं होता। हालाँकि कभी कभी ज्यादा घिस जाने की वजह से प्लैटर का कुछ भाग खराब हो जाता है।
    6. मैंने लार्सन & टूब्रो में काम करते हुए एक हार्ड डिस्क रिकवर करवाई थी जिसका खर्चा 14 हजार आया था। इससे भी ज्यादा खर्चा आता है कई बार।
    7. अगर आप अच्छे टेक्निकल बन्दे है तो खराब हार्ड डिस्क का प्लैटर स्वैप कर सकते है उसी मॉडल के नयी हार्ड डिस्क में। पर समस्या ये है कि ये सब काम सुपर- क्लीन रूम में होता है और यह काम अगर एक्सपर्ट नहीं कर रहा है तो दोनों डिस्क के फेल होने की संभावना रहेगी। खुद से खोली हुई हार्ड डिस्क पर भरोसा कभी नहीं करे।

    समाधान
    देखो भाई, हम और आप मिडिल क्लास के लोग है, कुछ डेटा बहुत जरूरी होता है पर सुपर महंगा रिकवरी की वजह से डिस्क फेल होने के बाद मन मसोसने से अच्छा है जरुरी डेटा का बैकअप बनाकर रखिये।
    • गूगल ड्राइव है आजकल 15 GB मिलता है एक अकाउंट में। बनाइये 10 ईमेल और भरपूर उपयोग कीजिये। क्वोरा को मल्टीप्ल अकाउंट से दिक्क्त है गूगल को नहीं।
    • आजकल तो 1000 GB की एक्सटर्नल हार्ड डिस्क 2500-3000 में आ जाती है इसको खरीद सकते है। समय समय पर इसी के अंदर बैकअप रखा जा सकता है।
    • अमूनन एक हार्ड डिस्क के फेल होने की संभावना 4 -5 वर्ष होती है। इससे पहले भी हो सकता है। सो तैयार रहिये।
    • समय समय पर स्मार्ट चेक सॉफ्टवेयर का उपयोग करके हार्ड डिस्क की हेल्थ का जायजा लीजिये। स्मार्ट चेक फंक्शन अक्सर लैपटॉप में इनबिल्ट आता है, अगर नहीं है तो सॉफ्टवेयर डाउनलोड कर के चेक परफॉर्म कर सकते है।
    • स्मार्ट चेक बहुत ही स्मार्ट है यह अंदाजा लगा लेता है की हार्ड डिस्क निकट भविष्य में खराब होने वाली है या नहीं। जल्दी पता चले तो डेटा सुरक्षित करने में सहूलियत रहेगी।
    ये रही मेरे हार्ड डिस्क कि स्मार्ट चेक रिजल्ट:
    • हेल्थ बढ़िया है।
    • पावर साइकिल काउंट : 6755 यानि इतनी बार हार्ड डिस्क को ऑन-ऑफ किया गया है।
    • पावर ऑन ऑवर : 336 दिन 19 घंटे यानि अबतक 8083 घंटे हार्ड डिस्क ऑन रहा है।
    • एक बढ़िया हार्ड डिस्क की पावर ऑन ऑवर 40000 घंटे तक होती है। इसके बाद हार्ड डिस्क में समस्या आनी शुरू हो जाएगी।

Post a Comment

1 Comments