क्या आप जानते हैं CVV नम्बर के बारे,क्यों ज़रूरी है यह नम्बर

HTML/JavaScript

क्या आप जानते हैं CVV नम्बर के बारे,क्यों ज़रूरी है यह नम्बर

आजकल बैंक जाने के बजाय ऑनलाइन पेमेंट करना आसान होता है।क्या आपने गौर किया है कि आप जब आप कार्ड से ऑनलाइन पेमेंट करते हैं तो आपसे कार्ड का CCV नम्बर मांगा जाता है, जो आमतौर पर 3 डिजिट का होता है।शुरुआती दौर में CCV नंबर 11 अंकों के होते थे जिन्हें बाद में 3 से 4 अंको तक रखा गया। कुछ बैंक इसे CVC कोड भी कहते हैं।CVV का अर्थ कार्ड वेरिफिकेशन वैल्यू है वहीं CCV का अर्थ कार्ड वेरिफिकेशन कोड है।

यह क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के पीछे की ओर मैग्नेटिक स्ट्रिप के पास होता है।ऑनलाइन ट्रांजेक्शन के समय आपके कार्ड के डिटेल ऑटो सेव हो जाते हैं और सिर्फ CVV नंबर एंटर करना होता है।इस नंबर की खासियत ये है कि ये किसी भी सिस्टम पर आसानी से सेव नहीं होता है।
CVV कोड सेक्युरिटी के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जब भी कार्ड को सार्वजनिक स्थल पर इस्तेमाल करते हैं तो उसका ऊपरी भाग सामने होता है जिसपर कार्ड का नंबर और एक्सपायरी डेट अंकित होता है।CVV कोड कार्ड के पिछले हिस्से में लिखा होता है,जिसे ऑनलाइन पेमेंट के वक़्त देख पाना आसान नहीं होता।अक्सर सलाह दी जाती है कि CVV नंबर को याद कर लेना चाहिए। साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से भी यह कोड किसी को न बताएं।

Post a Comment

2 Comments