HTML/JavaScript

दुनिया के सबसे खतरनाक कंप्यूटर वायरस सेकेंड्स में कर लेते हैं डेटा हैक !!!

कंप्यूटर चलाते वक्त आपको अक्सर डर लगता है कि कहीं आपके कंप्यूटर में वायरस ना आ जाएं। वायरस से कंप्यूटर को काफी नुकसान पहुंचता है।
वायरस की वजह से आपके कंप्यूटर की सभी फाइल्स करप्ट हो जाती है। यह कंप्यूटर में मौजूद सभी फोटो, वीडियो, डॉक्यूमेंट, पासवर्ड सभी चीजों को डिलीट कर देता है।
हम आपको कुछ ऐसे खतरनाक वायरस के बारे में बताएंगे जो आपके कंप्यूटर के लिए काफी नुकसानदेय है। आइए जानते हैं दुनिया के सबसे खतरनाक कंप्यूटर वायरस के बारे में।

most-dangerous-computer-viruses-allu n-time

1. I LOVE YOU
आई लव यू नाम का यह वायरस हजारों कंप्यूटर्स को बर्बाद कर चुका है। यह वायरस एक मेल के जरिए आता है जिसके सब्जेक्ट में आई लव यू लिखा होता है। इसके अंदर एक लव लैटर फॉर यू नाम वाला अटैचमेंट होता है। इसको क्लिक करते ही वायरस दीमक की तरह पूरे कंप्यूटर में फैल जाता है। इसके फैलते ही कंप्यूटर करप्ट हो जाता है और सारी फाइल्स डीलिट हो जाती है। यह एक जेनरल मेल की तरह आता है जिसमें आई लव यू लिखे होने से लोग इसे खोलते ही है और वायरस फैल जाता है।

2. Yankee Doodle
यांकी डूडल भी एक बहुत खतरनाक वायरस है। इसे 1989 में एक बुल्जेरियर हैकर ने बनाया था। यह वायरस कंप्यूटर में जाते ही खुद को कंप्यूटर का मेमोरी स्टोर बना लेता है। यांकी डूडल सभी .com और .exe फाइल्स को संक्रमित कर देता है। यह वायरस अगर कंप्यूटर में होता है तो रोजाना 4 बजे इसमे "Yankee Doodle" अलार्म के रूप में बजने लगता है।

3. Nimda
निम्दा वायरस का अविष्कार 2001 में हुआ था। इस वायरस का नाम अंग्रेजी शब्द admin से बना है। admin शब्द को उल्टा करेंगे इस वायरस का नाम बन जाएगा। निम्दा वायरस ने खुद को फैलने के लिए ईमेल्स, सर्वर की कमजोरियां, शेयर की फोल्डर्स और फाइल्स का फायदा उठा के किया था। यह वायरस इंटरनेट पर मात्र 22 मिनट में सबसे तेज फैलने वाले वायरस बना था। इस वायरस का मुख्य मक्सद इंटरनेट ट्रैफिक को रोककर DoS पर अटैक करना होता है।

4. Morris Worm
मॉरिस वॉर्म वायरस का अविष्कार 1988 में कर्नेल विश्वविद्यालय के एक छात्र ने किया था। वायरस जब फैलना शुरू हुआ उस वक्त 60,000 कंप्यूटर इंटरनेट से अटैच थे और वायरस ने 10% पर अपना प्रभाव दिखाया था। इस वायरस में क्षमता है कि यह कंप्यूटर को एकदम कम लेवल तक स्लो कर देता है जिससे कंप्यूटर किसी काम के लायक नहीं रहता।

5. Conficker
कॉनफिकर को डाउनअप, डाउनाडेप और किडो के नाम से भी जाना जाता है। वह कंप्यूटर वायरस का एक प्रकार है जो आमतौर पर माइक्रोसॉफ्ट विंडोज ऑपरेटिंग सिस्टम को टारगेट करता है। आजकल यही विंडोज ज्यादातर लोग उपयोग करते हैं। इसने 190 देशों के कंप्यूटर में अपना जाल बिछाया जिसमें घर के काम से लेकर कॉर्परेट और सरकारी सभी कामों का नुकसान हुआ।

6. SkyNet
टर्मिनेटर मूवी के बारे में हम सभी जानते हैं। स्काईनेट भी इसी मूवी से प्रेरित होकर बना है। यह बड़ा दयालू किस्म का वायरस है जो धीरे-धीरे कंप्यूटर को स्लो करता है और फिर स्क्रीन को पूरा लाल कर देता है और उसमें लिखा रहता है, "डरो मत, मैं एक बहुत ही प्रकार का वायरस हूँ आपने आज कई काम किए हैं तो, मैं आपके कंप्यूटर को धीमा कर दूँगा। आपका दिन शुभ हो, अलविदा जारी रखने के लिए एक कंटीन्यू दबाएं" यह वायरस कंप्यूटर पर सभी .exe फ़ाइलों को संक्रमित कर देता है।

Post a Comment

2 Comments