आई -ऐ- एस ,(कलेक्टर,) बनने के लिये ये है एग्जाम पैटर्न, सेलेक्शन प्रोसेस और सैलरी

HTML/JavaScript

आई -ऐ- एस ,(कलेक्टर,) बनने के लिये ये है एग्जाम पैटर्न, सेलेक्शन प्रोसेस और सैलरी

भारतीय सिविल सेवा के लिए पहले प्रारम्भिक परीक्षा, आब्जेक्टिव होती है. इसमें सफल मेन्स में बैठते हैं. इन परीक्षाओं के बाद परीक्षार्थी का इंटरव्यू होता है. इंटरव्यू में सफलता के बाद चयन की प्रक्रिया पूरी होती है.
भारतीय सिविल सेवा के लिए पहले प्रारम्भिक परीक्षा, आब्जेक्टिव होती है. इसमें सफल मेन्स में बैठते हैं. इन परीक्षाओं के बाद परीक्षार्थी का इंटरव्यू होता है. इंटरव्यू में सफलता के बाद चयन की प्रक्रिया पूरी होती है.
UPSC (Union Public Service Commission) के लिए हर साल लगभग 10 लाख आवेदन किए जाते हैं. जिसमें से लगभग कुछ ही लोग सेलेक्ट होते हैं. सरकारी अफसर बनने की चाह रखने वाले बहुत से लोगों का सपना IAS ऑफिसर बनना होता है. IAS ऑफिसर के लिए एग्जाम संघ लोक सेवा आयोग द्वारा कराया जाता है.  IAS के लिए एग्जाम पैटर्न क्या है. आइए जानते हैं...
सबसे पहले होती है प्रारंभिक परीक्षा
इंडियन एडमिनिस्ट्रैटिव सर्विस यानी IAS ऑफिसर बनने के लिए UPSC (संघ लोक सेवा आयोग) पहली स्टेज में Preliminary एग्जाम होता है. ये एग्जाम होने की घोषणा हर साल फरवरी-मार्च में की जाती है. पेपर जून-जुलाई में होता है और रिजल्ट मिड-अगस्त में आता है. परीक्षा के तीनों स्टेज के पेपरों में करंट अफेयर्स से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं.
एग्जाम की दूसरी स्टेज मेन एग्जाम है. ये पेपर हर साल अक्टूबर में होता है. एग्जाम की तीसरी स्टेज  (इंटरव्यू) है. ये एग्जाम हर साल दिसंबर में होता है.
मुख्य परीक्षा में इन्हें मिलता है मौका प्रीलिमिनरी एग्जाम के स्कोर के आधार पर मेन एग्जाम के लिए क्वालीफाई माना जाता है. मेन एग्जाम और PT टेस्ट के आधार पर ही रैंक तय की जाती है.
- मेन एग्जाम में नौ पेपर होते हैं. जिसमें दो क्वालिफाई करने होते हैं और सात रैंकिंग वाले होते हैं. इन पेपर्स में सवाल एक से 60 नंबर्स तक हो सकते हैं. जिनके जवाब 20 शब्दों से 600 के बीच दिया जा सकता है. क्वालिफाईंग पेपर्स पास करने वाले उम्मीदवारों को अंकों के अनुसार रैंक दिया जाता है. सेलेक्टेड कैंडीडेट्स को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है. यहां व्यक्तित्व परीक्षण किया जाता है.
कुल नंबर : 2025
IAS परीक्षा का पैटर्न और चयन प्रक्रिया
यूपीएससी मुख्य परीक्षा का पैटर्न
प्रारम्भिक परीक्षा छात्रों की छटनी करनी वाली परीक्षा होती है. प्रारम्भिक परीक्षा में सफल होने वाले मेन्स परीक्षा में बैठते हैं. मेन्स परीक्षा में दो पेपर क्वालीफाइंग होते हैं- पेपर-A भारतीय भाषाओं होता है. पेपर-B अंग्रेजी भाषा को होता है. प्रत्येक पेपर 300 अंकों का होता है. लेकिन इसमें प्राप्त किए गए अंक टोटल मेरिट टिस्ट में काउंट नहीं होते हैं. परीक्षार्थियों को केवल इसमें पास होना होता है.
यूपीएससी जीएस मुख्य परीक्षा का पैटर्न
क्लीफाइंग पेपर के बाद मेरिट लिस्ट में काउंट होने वाले पेपरों की परीक्षा होती है. निबंध की परीक्षा 250 नंबर की होती है. अगला पेपर सामान्य अध्ययन का होता है, जो चार हिस्सों में होता है. जीएस के पहले पेपर में भारतीय संस्कृत, विश्व इतिहास, भूगोल और समाज को लेकर प्रश्न बनते हैं. जीएस के दूसरे पेपर में संविज्ञान, प्रशासन, अंतर्राष्ट्रीय संबंध, नीतियां और सामाजिक न्याय से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं. जीएस के तीसरे पेपर में जैव-विविधता, आपदा प्रबंधन, आर्थिक विकास, पर्यावरण, सुरक्षा और टेक्नोलोजी के प्रश्न आते हैं. जीएस के चौथे पेपर में योग्यता, अखंडता और नीति शास्त्र से संबंधित प्रश्न आते हैं. जीएस के प्रतेक पेपर 250 अंकों का होता है.
आईएएस मेन्स लिखित परीक्षा कुल 1750 अंकों की होती है. इसके बाद इंटरव्यू होता है. जिसको व्यतित्व टेस्ट कहते हैं. इंटरव्यू का कुल 275 अंको का होता है. इस तरह से देखें तो आईएएस की परीक्षा कुल 2025 अंकों की होती है.
चयन प्रक्रिया
भारतीय सिविल सेवा के लिए पहले प्रारम्भिक परीक्षा, आब्जेक्टिव होती है. इसमें सफल मेन्स में बैठते हैं. इन परीक्षाओं के बाद परीक्षार्थी का इंटरव्यू होता है. इंटरव्यू में सफलता के बाद चयन की प्रक्रिया पूरी होती है.
आईएएस अफसर का वेतनमान 7 पेय कमिसन के अनुसार 56000 से 250000 तक होता है

Post a Comment

2 Comments